🪔 हरसिद्धि माई चालीसा (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

हरसिद्धि माई चालीसा लिरिक्स (हिन्दी Lyrics & PDF) –

आद्यशक्ति हरसिद्धि माई,
विश्व में सब मैं समाई।
त्रिलोक सांभा सुर ने जीत लीन्हा,
ब्रह्मा हरिहर बिनती कीन्हा।

शुंभ रक्त बीज राक्षस का वध करता है,
चण्ड मुंड धुम्न लोचन को मारे।
प्रिय महिषासुर,
त्रिलोक का माई ने बोझ।

शंकर हरसिद्धि के नाम से जाने जाते हैं
ब्रह्मा हरिहर देवो से पूजै।
प्रभात भोग दे तेल में तलाई,
विक्रम ने आत्मसमर्पण कर दिया.

विक्रम साथ उज्जैन मई I,
विराजी के सिर पर दीपक लग गया।
हरसिद्धि ने विक्रम को दर्शन दिए,
वीराजी के साथ पृथ्वी में समाई..

जीभ को नरसंग को रौंदने दो,
धारा को पवित्रता के रक्त से भर दो।
दर्द से बोहत कष्ट भष्म पावा,
खड़ग का त्याग करके जाओ।

नेत्रो दे गिरी का अफसोस मितवा,
मदन सोनी वहीं लक्ष्मी वरसवा.
सागर मैंने जगदुशाह को बुलाया,
जहाज सहित माई ने उगारा।

राज्य दान शैलेश को दिया भाई,
हरसिद्धि गिरि वंशी गोसाईं।
स्मरण भक्ति से माई रिजै,
वेरिसल को स्वप्न में काहे माई।

अष्टमी मंगल है उज्जैन से I,
सोलह सत्तावन साल का भाई.
त्रिदेव लेके मा नंदपुर मैं,
कर गंगा तेरे दीपक की माँ।

वेद शास्त्र पुराण थके हुए बुद्धिमान,
मार्कण्ड द्वारा वशिष्ठ महिमा की स्तुति |
चरणो पूजन मारकंडे किन्हा,
अभय शरण माई ने दीन्हा।

सुरथ वैश्य ऋषि आश्रम जावा,
मेघाशी को कर्म कथा सुनाओ।
तब मेघ ने चंडीपाठ सुना,
मंत्र से पूजा करें.

मैं समाधि वैश्य को ज्ञान देने आया था,
शत्रु ने लेया राज मुजे दे माई।
सुरथ समाधि अमर है,
सब समर्थ है हरसिद्धि माई।

भंडासुर की आराधना फलदायी हो,
शिव ने वरदा को अमरता प्रदान की।
तांत्रिक यज्ञ सब देवो ने कीन्हा,
फिर त्रिपुरम्बा का दर्शन करें।

प्रभु बचाओ,
भंडासुर द्वारा मृत्यु की घंटी बजाई गई।
सुना लिखा मत पढ़ो भाई,
वह भिखारिन बनकर दूसरों के पास नहीं गई।

भगवान के हाथ से अभय वर दे माई,
वरदान में चरणो से मिल जाई।
विद्यादान माई से विद्रिया पावे,
सुहागन भाल में कंकु सुहावै..

दुल्हन को मनचाहा वर मिले,
डायन भूतों को भगा देती है.
नित्य वंदी सिन्दूर भाल,
कौन गरीब है और कौन अमीर.

अम्बा, मुझ पर प्रसन्न हो जाओ।
अब दर्शन देर मत करो.
आदि व्याधि मुजको घेरो,
हरसिद्धि बिन न सहरो मेरो।

शत्रुनाथ कीजे महारानी,
करे बिनाति तुम्हें बाल भवानी।
जो भी मनोवांछित फल मिले,
अपने घर से खाली हाथ न निकलें.

लक्ष्मी भंडारी संतान देने वाली मां हैं।
नहीं हरसिद्धि जैसा कोई दाता।
जिस पर हरसिद्धि की कृपा हो,
यदि तुम इसके बारे में सोचोगे तो सब कुछ ख़त्म हो जाएगा।

कृपया महाराज
अपना भाषण पूरा करें.
अपरा, यदि शरीर रोगग्रस्त है
वो नर एक सौ बारह का पाठ करता है।

माँ प्रताप से ऋण मुक्ति
हम शीश माँ के चरणों में झुक गये।
अष्ट सिद्धि नव निधि की प्राप्ति हुई
कलियुग में स्मरण सुखदायक है।

श्री हरसिद्धि स्मरणोत्सव सर्वेक्षण में
कर्मों में विजय है
सिन्दूर भाला देखकर
दुख दूर हो जाते हैं.
बोलना…
श्री हरसिद्धि माताकी जय।

🪔 हरसिद्धि माई चालीसा (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Harsiddhi Mai Chalisa (English Lyrics & PDF) –

Adhyashakti Harsiddhi Mai,
Vishwa me sab main main samai.
Trilok Sambha Sur Ne Jeet Linha,
Brahma Harihar Binti Kinha.

Shumbh Rakta Bij slays the demon,
Chand Mund Dhumn Lochan Ko Mare.
Dear Mahisasur,
Trilok ka mai ne burden.

Known as Shankar Harsiddhi,
Brahma Harihar Devo Se Pujai.
Prabhat bhog de oil me talai,
Vikram surrendered.

Vikram Saath Ujjain May I,
Viraji got a lamp on his head.
Harsiddhi appeared to Vikram,
Veeraji Ke Saath Prithvi Me Samai..

Let the tongue trample the narsanga,
Fill the stream with the blood of purity.
Dard se bohat kashta bhasham pava,
Sacrificing Kharag and go.

Netro de giri ka alas mitava,
Madan Soni there Lakshmi Varsava.
Sagar I called Jagdushah,
Mai Ne Ugara along with the ship.

Rajya Dan Shailesh Ko Diya Bhai,
Harsiddhi Giri Vanshi Gosai.
Smaran bhakti se mai rizai,
Verisal Ko Swapn Me Kahe Mai.

Ashtami Mangal is Ujjain Se I,
Sixteen fifty seven year old brother.
Tridev Leke Ma Nandpur Me I,
Kar Ganga Tere Deepak’s mother.

Veda Shastra Puranas tired wise,
Markand praised Vashishtha Mahima.
Charano Poojan Markande Kinha,
Abhay Sharan Mai Ne Dinha.

Surath Vaishya Rishi Ashram Java,
Narrate Karma Katha to Meghashi.
Then Megh heard Chandipath,
Worship with mantra.

I came to give knowledge to Samadhi Vaishya,
Shatru ne leya raj muje de mai.
Surath Samadhi is immortal,
Sub Samarth Hai Harsiddhi Mai.

May Bhandasura’s worship be fruitful,
Shiva granted immortality to Varda.
Tantric yajna sab devo ne kinha,
Then see Tripuramba.

Save the Lord,
The death knell was rung by Bhandasura.
Don’t read Suna Likha brother,
She did not become a beggar and went to others.

Abhay var de mai by gods hand,
Charano Se Mil Jai in the boon.
Vidyadan mai se vidriya pave,
Suhagan bhal mein kanku suhawai..

May the bride find the desired bridegroom,
The witch drives away the ghosts.
Nitya Vandi Sindur Bhal,
Who is poor and rich.

Be pleased with me, Amba.
Ab Darshan do not delay.
Adhi Vyadhi Mujko ghero,
Harsiddhi bin na saharo Mero.

Shatru Nath Kije Maharani,
Kare binati tumhe baal bhavani.
Whatever desired fruit comes,
Do not leave your home empty-handed.

Lakshmi Bhandari is the mother who gives children.
Nahi Harsiddhi Jaisa no donor.
May Harsiddhi grace Jis,
If you think about it, everything will be gone.

Please majesty
Accomplish your speech.
Apara, if the body owes disease
Wo Nar recites one hundred and twelve.

Maa Pratap Se Debt Redemption
Hum Sheesh bowed at Ma’s feet.
Ashta Siddhi Nav Nidhi was met
Remembrance is pleasant in Kala Yuge.

In Sri Harsiddhi Commemoration Survey
There is victory in deeds
After seeing the vermilion javelin
Sorrows escape.
speak…
Shri Harsiddhi Mataki Jai.

चालीसा संग्रह – link

आरती संग्रह – लिंक

स्त्रोत संग्रह – लिंक

Sharing Is Caring:

Leave a Comment