🪔 माता वैष्णो चालीसा (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

यहां हम माता वैष्णो चालीसा इन हिंदी (vaishno chalisa in hindi) प्रस्तुत कर रहे है। यदि आप इस चालीसा को पड़ना चाहते है तो आप इस चालीसा को पढ़ सकते है। और यदि आप माता वैष्णो pdf (vaishno chalisa in hindi PDF) में डाउनलोड करना चाहते है तो आप यहां से कर सकते है।

माता वैष्णो चालीसा लिरिक्स (हिन्दी & PDF),vaishno devi chalisa in hindi –

॥ दोहा ॥

गरुड़ वाहिनी वैष्णवी
त्रिकुटा पर्वत धाम

काली, लक्ष्मी, सरस्वती,
शक्ति तुम्हें प्रणाम।

॥ चौपाई ॥

नमो: नमो: वैष्णो वरदानी,
कलि काल मे शुभ कल्याणी।

मणि पर्वत पर ज्योति तुम्हारी,
पिंडी रूप में हो अवतारी॥

देवी देवता अंश दियो है,
रत्नाकर घर जन्म लियो है।

करी तपस्या राम को पाऊं,
त्रेता की शक्ति कहलाऊं॥

कहा राम मणि पर्वत जाओ,
कलियुग की देवी कहलाओ।

विष्णु रूप से कल्कि बनकर,
लूंगा शक्ति रूप बदलकर॥

तब तक त्रिकुटा घाटी जाओ,
गुफा अंधेरी जाकर पाओ।

काली-लक्ष्मी-सरस्वती मां,
करेंगी पोषण पार्वती मां॥

ब्रह्मा, विष्णु, शंकर द्वारे,
हनुमत, भैरों प्रहरी प्यारे।

रिद्धि, सिद्धि चंवर डुलावें,
कलियुग-वासी पूजत आवें॥

पान सुपारी ध्वजा नारीयल,
चरणामृत चरणों का निर्मल।

दिया फलित वर मॉ मुस्काई,
करन तपस्या पर्वत आई॥

कलि कालकी भड़की ज्वाला,
इक दिन अपना रूप निकाला।

कन्या बन नगरोटा आई,
योगी भैरों दिया दिखाई॥

रूप देख सुंदर ललचाया,
पीछे-पीछे भागा आया।

कन्याओं के साथ मिली माँ,
कौल-कंदौली तभी चली माँ॥

देवा माई दर्शन दीना,
पवन रूप हो गई प्रवीणा।

नवरात्रों में लीला रचाई,
भक्त श्रीधर के घर आई॥

योगिन को भण्डारा दीनी,
सबने रूचिकर भोजन कीना।

मांस, मदिरा भैरों मांगी,
रूप पवन कर इच्छा त्यागी॥

बाण मारकर गंगा निकली,
पर्वत भागी हो मतवाली।

चरण रखे आ एक शीला जब,
चरण-पादुका नाम पड़ा तब॥

पीछे भैरों था बलकारी,
चोटी गुफा में जाय पधारी।

नौ मह तक किया निवासा,
चली फोड़कर किया प्रकाशा॥

आद्या शक्ति-ब्रह्म कुमारी,
कहलाई माँ आद कुंवारी।

गुफा द्वार पहुँची मुस्काई,
लांगुर वीर ने आज्ञा पाई॥

भागा-भागा भैंरो आया,
रक्षा हित निज शस्त्र चलाया।

पड़ा शीश जा पर्वत ऊपर,
किया क्षमा जा दिया उसे वर॥

अपने संग में पुजवाऊंगी,
भैंरो घाटी बनवाऊंगी।

पहले मेरा दर्शन होगा,
पीछे तेरा सुमिरन होगा॥

बैठ गई मां पिंडी होकर,
चरणों में बहता जल झर झर।

चौंसठ योगिनी-भैंरो बर्वत,
सप्तऋषि आ करते सुमरन॥

घंटा ध्वनि पर्वत पर बाजे,
गुफा निराली सुंदर लागे।

भक्त श्रीधर पूजन कीन,
भक्ति सेवा का वर लीन॥

सेवक ध्यानूं तुमको ध्याना,
ध्वजा व चोला आन चढ़ाया।

सिंह सदा दर पहरा देता,
पंजा शेर का दु:ख हर लेता॥

जम्बू द्वीप महाराज मनाया,
सर सोने का छत्र चढ़ाया ।

हीरे की मूरत संग प्यारी,
जगे अखण्ड इक जोत तुम्हारी॥

सेवक’ कमल’ शरण तिहारी,
हरो वैष्णो विपत हमारी॥

कलियुग में महिमा तेरी,
है मां अपरंपार

धर्म की हानि हो रही,
प्रगट हो अवतार

॥ इति श्री वैष्णो देवी चालीसा ॥

Vaishno Chalisa (English Lyrics & PDF) –

Doha
Garud vahini Vaishnavi
Trikuta parvat dhaam

Kali, Lakshmi, Saraswati,
Shakti tumhe pranaam.

Chaupai
Namo Namo Vaishno varadaani,
Kali kaal me shubh kalyaani.

Mani parvat par jyoti tumhaari,
Pindi roop mein ho avataari.

Devi devata ansh diyo hai,
Ratnaakar ghar janm liyo hai.

Kari tapasya Ram ko paun,
Treeta ki shakti kaha laun.

Kaha Ram Mani parvat jaao,
Kaliyug ki Devi kaha laao.

Vishnu roop se Kalki bankar,
Loonga shakti roop badalkar.

Tab tak Trikuta ghaati jaao,
Gufa andheri jaakar paao.

Kali-Lakshmi-Saraswati Maan,
Karengi poshan Parvati Maan.

Brahma, Vishnu, Shankar dvaare,
Hanumat, Bhairon prahari pyaare.

Riddhi, Siddhi chhavarni dulaven,
Kaliyug-vaasi poojat aaven.

Paan supari dhvaja naarial,
Charanaamrit charanon ka nirmal.

Diya phalit var maa muskaai,
Karan tapasya parvat aayi.

Kali Kaalki bhadki jwaala,
Ik din apna roop nikala.

Kanya ban nagrota aayi,
Yogi Bhairon diya dikhayi.

Roop dekh sundar lalachaya,
Peeche-peeche bhaaga aaya.

Kanyaon ke saath mili maa,
Kaol-kandauli tabhi chali maa.

Deva maa darshan deena,
Pavan roop ho gayi praveena.

Navratriyon mein leela rachayi,
Bhakt Shreedhar ke ghar aayi.

Yogini ko bhandara deeni,
Sabne ruchikar bhojan keena.

Maans, madira Bhairon maangi,
Roop pavan kar iccha tyagi.

Baann maar kar Ganga nikli,
Parvat bhaagi ho matvaali.

Charan rakhe aa ek sheela jab,
Charan-paaduka naam pada tab.

Peeche Bhairon tha balakaari,
Choti gufa mein jaay padhaari.

Nau mah tak kiya nivaasa,
Chali phodkar kiya prakaasha.

Aadya shakti-Brahm kumaari,
Kahaai maa aad kunwaari.

Gufa dvaar pahunchi muskaai,
Laangur veer ne aagya paai.

Bhaaga-bhaaga Bhairon aaya,
Raksha hit nij shastra chalaaya.

Pada sheesh ja parvat oopar,
Kiya kshama ja diya use var.

Apne sang mein pujvaungi,
Bhairon ghaati banvaungi.

Pehle mera darshan hoga,
Peeche tera smaran hoga.

Baith gayi maa pindi hokar,
Charanon mein bahta jal jhar jhar.

Chausath yogini-Bhairon barvat,
Saptarishi aa karte sumiran.

Ghanta dhvani parvat par baaje,
Gufa niraali sundar laage.

Bhakt Shreedhar poojan keen,
Bhakti seva ka var leen.

Sevak dhyanoon tumko dhyaana,
Dhvaja v chola aan chadhaaya.

Singh sada dar pahra deta,
Panja sher ka dukh har leta.

Jambu dvip maharaj manaaya,
Sar sone ka chatra chadhaya.

Heere ki moorat sang pyaari,
Jage akhand ik jot tumhaari.

Sevak Kamal sharana tihaari,
Haro Vaishno vipat hamaari.

Kaliyug mein mahima teri,
Hai maa aparampaar

Dharm ki haani ho rahi,
Pragat ho avataar

चालीसा संग्रह – link

आरती संग्रह – लिंक

स्त्रोत संग्रह – लिंक

Sharing Is Caring:

Leave a Comment